Thursday, April 12, 2012

वैभव लक्ष्मी की उपासना

या रक्ताम्बुजवासिनी विलासिनी चण्डांशु तेजस्विनी। या रक्ता रुधिराम्बरा हरिसखी या श्री मनोल्हादिनी॥ या रत्नाकरमन्थनात्प्रगटिता विष्णोस्वया गेहिनी। सा मां पातु मनोरमा भगवती लक्ष्मीश्च पद्मावती ॥ शुक्रवार को व्रत रख शाम को माता लक्ष्मी की पूजा करें। वैभव लक्ष्मी की मूर्ति या चित्र की पूजा में खासतौर पर लाल चंदन, गंध, लाल वस्त्र, लाल फूल अर्पित करें। दूध के पकवानों या खीर का भोग लगाएं। समृद्धि व शांति की इच्छा से वैभव लक्ष्मी मंत्र का यथाशक्ति जप करेंशास्त्रों के मुताबिक देवी उपासना के किसी भी विशेष दिन शुक्रवार, नवमी, नवरात्रि या अमावस्या की रात्रि पर विशेष मंत्र से लक्ष्मी का ध्यान मनचाहे आनंद व समृद्धि देती है।

1 comment:

  1. वैभव लक्ष्मी की उपासना की विधि प्रस्तुति हेतु आभार ...

    ReplyDelete